2015 in review

The WordPress.com stats helper monkeys prepared a 2015 annual report for this blog.

Here’s an excerpt:

A San Francisco cable car holds 60 people. This blog was viewed about 920 times in 2015. If it were a cable car, it would take about 15 trips to carry that many people.

Click here to see the complete report.

भारतीय भाषाओं में समान तत्त्व

श्रेणी   आलोचना –  निबन्ध

टैग  भारतीय भाषाएँ – समानता – समान तत्त्व
भारतीय भाषाओं में समान तत्त्व

भारतीय भाषाओं में और उन के साहित्य में अनेक समानताएं या समान त्तत्त्व हैं
, जिन की यहां चर्चा न कर के मैं उन की भाषिक समानताओं के बारे में कुछ कहना
चाहता हूं । पहले लिपि को लीजिये । उत्तर भारत की अनेक भाषाओं की लिपि
देव नागरी या उस में परिवर्तन कर बनी लिपि है । गुजराती , मराठी , बंगला और
पंजाबी की लिपियां ऐसी ही हैं । सिन्धी अब फ़ारसी लिपि में लिखी जाती है , पर
उस की पुरानी लिपि शारदा लिपि थी , जो ब़ाह्मी लिपि से निकली थी । यही कहानी
कश्मीरी भाषा की है जो पहले शारदा लिपि में लिखी जाती थी , पर अब फ़ारसी
लिपि में लिखी जाती है । पर यह भी रोचक है कि अनेक कश्मीरी और सिन्धी अपनी
भाषाओं को देवनागरी में लिखने का अभियान चला रहे हैं । तो ये भाषाएं अब दोनों
लिपियों में लिखी जा रही हैं ।उर्दू की लिपि फ़ारसी है , पर हिन्दी और उर्दू में लिपि के
अन्तर के बावजूद दोनों भाषाएँ सगी बहनें हैं । यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि उर्दू
का ढेर सारा साहित्य देवनागरी लिपि में प़काशित हो चुका है । पर उर्दू प़ेमी फ़ारसी
लिपि को ही उर्दू की अनिवार्य लिपि मानते हैं । तो फ़ारसी लिपि का उर्दू से और
देवनागरी का हिन्दी से गहरा और अटूट सम्ब्न्ध हो गया है ।
संक्षेप में कहा जा सकता है कि अधिकांश भारतीय भाषाओं में लिपि की काफी
समानता है , क्योंकि वे देव नागरी या उस से विकसित लिपियों और मिलती जुलती
लिपियों में लिखी जा रही हैं । कुछ भारतीय भाषाओं , जैसे तमिल , तेलुगु , मलयालम ,
कन्नड़ की लिपियाँ अलग अलग हैं ।
अब अनेक भारतीय भाषाओं की शब्दसम्पदा को देखें । हिन्दी , बंगला , तेलुगु ,
तमिल , मलयालम , गुजराती , मराठी और पंजाबी में अनेक संस्कृत शब्द हैं । उर्दू
भी संस्कृत शब्दों से ख़ाली नही है । संस्कृत यौवन ही उर्दू में ज़ोबन बन गया है ।
संस्कृत का कर्म ही उर्दू , हिन्दी में काम और कार्य ही काज , कारज बन गये हैं ।
संस्कृत का कर्म पंजाबी में कम्म , त्वमसि का तुसि ,अस्मि का असि बन गया है ।
अस्मि बंगला में आमि हो गया है । त्वमसि , अस्मिन , अस्मि आदि की छाया
हिन्दी के है , हैं , हो , मैं , हम , तुम में मिलती है । सि की ध्वनि ही है बन गई है ।
अस्मिन से ही हम और हमें शब्द बने लगते हैं । संस्कृत शब्दों के सैंकड़ों तद्भव
रूप हिन्दी में और दूसरी भाषाओं में चल रहे हैं और संस्कृत के अनेक तत्सम शब्द
अनेक भारतीय भाषाओं में मिलते हैं ।
हिन्दी में अधिकांश संस्कृत शब्दों को अपना लिया गया पर उस में संस्कृत , फ़ारसी
, अरबी , तुर्की और अंग़ेज़ी के अनेक शब्दों के तद्भव रूप भी मिलते हैं । अनेक उप
भाषाओं , बोलियों के प़चलित शब्द भी हिन्दी में मिलते हैं । ब़ज भाषा , अवधी ,
भोजपुरी , मैथिली , मगही , सन्थाली , राजस्थानी और पहाड़ी बोलियों के शब्द भी
हिन्दी में आ कर घुलमिल गये हैं । बोलियों से हिन्दी में मिश्रण का क़म निरन्तर जारी
है । अन्य भाषाओं और बोलियों से शब्द लेने की यह प़वृत्ति अन्य भारतीय भाषाओं
में भी मिलती है ।

भारतीय भाषाओं में अनेक समान शब्दों को लेने के पीछे मुख्य कारण भारतीय संस्कृति की
एकता है पर इस के साथ अन्य कारण भी हैं जैसे समान ऐतिहासिक घटनाओं के प्रभव
समान भौगोलिक परिवेश और रितुओं का समान क्रम भी हैं । भारतीय संस्कृति के समान तत्त्व
अनेक भारतीय भाषाओं और उन के साहित्य में झलक जाते हैं । ा
संस्कृति का एक अनिवार्य तत्व धर्म है । आर्य धर्म , जो कालान्तर में हिन्दू धर्म कहा जाने
लगा , लगभग सभी भारतीय भाषाओं और उन के साहित्य को प्रभावित करता रहा है । इस
धर्म की व्यंजना सीधे सीधे धर्म प्रचार के रूप में नहीं हुई बल्कि आस्तिकता , आध्यात्मिकता ,
और भक्ति भावना के आग्रह के रूपों में हुई । चाहे निराकर ईश्वर की भक्ति हो या साकार
ईश्वर के विभिन्न अवतारों की , पर भक्ति की चेतना सभी भारतीय भाषाओं के साहित्यों में
मिलती है ।

डा सुधेश
३१४ सरल अपार्टमैन्ट्स , द्वारिका , सैक्टर १०
दिल्ली ११००७५
फ़ोन 9350974120

मेरी ताज़ा कविता

मेरी ताज़ा कविता

भाग्य और नियति

मैं भाग्यवादी नहीं
पर मेरे साथ
जो अघटित घटा
या घट रहा है या घटेगा
है मेरी नियति ।
भाग्य तो धोखा है
हसीन ख़्वाब सा
जिसे देखते देखते
कई बचपन बुढ़ा गये
फिर भी अन्धी आँखों में है
आशा की ज्योति ।
घटित और अघटित के बीच
जीवन बीत रहा
घड़ी के पैन्डुलम सा ।

— सुधेश

श्रेणी   Kavita ,  Sudhesh ,  bhagya

स्मृति शेष डा शैलेन्द्र त्रिपाठी

श्रेणी   संस्मरण — शैलेन्द्र त्रिपाठी  — शान्ति निकेतन
स्मृति शेष डा शैलेन्द्र कुमार त्रिपाठी

शान्ति निकेतन के विश्वभारती विश्व विद्यालय के हिन्दी भवन में हिन्दी के प्रोफ़ेसर और विभागाध्यक्ष
डा शैलेन्द्र त्रिपाठी का निधन २७ जनवरी २०१५ को गोरखपुर में हो गया । यह दुखद समाचार पा कर
मेरा दुखी होना स्वाभाविक था , क्योंकि वे मेरे अच्छे मित्र थे । वे विगत एक वर्ष से रक्त कैन्सर से
पीड़ित थे । इलाज के बावजूद उन को बचाया नहीं जा सका । अब क्या किया जा सकता है उन्हें
श्रद्धांजलि देने के सिवा और उन की यादों में खो जाने के सिवा ।
उन से मेरा परिचय लगभग एक दशक पहले उन के द्वारा सम्पादित त्रैमासिक पत्रिका सरयू धारा
के माध्यम से हुआ । न जाने कैसे सरयू धारा का कोई अंक मेरे हाथ लग गया । उस में अन्य सामग्री
के साथ कविताएँ प्रचुर मात्रा में थीं और कुछ श्रेष्ठ कविताएँ थीं । मुझे लगा कि कविता को हाशिये
पर धकेले जाने के युग में बंगाल से एक पत्रिका निकल रही है जो मुझे कविता प्रधान लगी । मैं ने
अपनी कुछ कविताएँ उन्हें भेज दीं , जो अगले अंक में सम्पादक की टिप्पणी के साथ छपीं । फिर
त्रिपाठी जी से पत्राचार का सिलसिला शुरु होगया ।
एक पत्र में उन्होंने लिखा कि वे लोक साहित्य पर विशेषांक निकालना चाहते हैं और उस के
लिए मैं कोई लेख भेजूँ । उन दिनों मैं कुल्लियाते नज़ीर अकबराबादी , जो उर्दू लिपि में है, पढ़ रहा
था । सोचा कि नज़ीर की कविता में लोकतत्त्व या लोकचेतना पर लिखूँ । मैं ने नज़ीर पर वह लेख
लिख कर उन्हें भेज दिया । एक दो महीनों के बाद त्रिपाठी जी का टेलीफ़ोन आया । उन्होंने कहा
कि लोकसाहित्य पर सामग्री पर्याप्त मात्रा में एकत्र नहीं हो पाई , लोकसाहित्य विशेषांक बाद
में निकालेंगे अगला अंक प्रेमचन्द पर होगा , जिस के लिए काफी सामग्री उन के पास आ गई
है । उन का सुझाव था कि मैं प्रेम चन्द के किसी पक्ष पर एक लेख उन्हें भेज दूँ । मैं ने गोदान को
दूसरी या तीसरी बार पढ़ा और उस में दलित चेतना की खोज की । दलित लेखक प्रेम चन्द को
अपना लेखक नहीं मानते लेकिन मैं ने गोदान में दलित पात्र और दलित चेतना को पाया । अन्ततः:
गोदान में दलित चेतना शीर्षक एक लेख लिख कर त्रिपाठी जी को भेज दिया । वह विशेषाँक
मेरे लेख के साथ छपा जिस में अनेक आलोचकों के लेख भी थे । लगभग दो सौ या ढाई सौ
पृष्ठों का विशेषांक निकालना आसान नहीं था ।
सन २००७ के किसी महीने उन का फ़ोन आया कि विश्वभारती से मुझे कोई पत्र
मिला होगा , जिस के द्वारा आप को यहाँ मेरे शिष्य दुष्यन्त कुमार की मौखिक परीक्षा के लिए
बुलाया गया है । शीघ्र अपनी स्वीकृति भेजिये । मैं उस शोधप्रबन्ध पर अपनी रिपोर्ट पहले भेज
चुका था और उन का फ़ोन सुन कर मैं ने मौखिक परीक्षा के लिए अपनी स्वीकृति भी भेज दी ।
औपचारिकताओं के बाद मैं मार्च २००७ के अन्तिम सप्ताह में दिल्ली से कोलकाता के लिए
एयर सहारा के विमान से सवेरे वहां के हवाई अड्डे पर उतरा । मेरी हवाई यात्रा का प्रबन्ध त्रिपाठी
जी के प्रयत्न से हो गया था । हावड़ा के रेलवे स्टेशन से एक एक्सप्रेस गाड़ी ले कर मैं शाम को
लगभग साढ़े छह बजे के लगभग बोलपुर स्टेशन पर उतरा ।विचित्र लगा कि स्टेशन का नाम
बोलपुर है शान्ति निकेतन क्यों नहीं लेकिन तब बोलपुर ही था ।स्टेशन पर गाड़ी से उतरते ही
लाउडस्पीकर पर घोषणा सुनी कि डा सुधेश अमुक जगह पर आ जाएँ जहाँ आप को दुष्यन्त
मिलेंगे । मैं उन के साथ रिक्शा द्वारा विश्वभारती के अतिथि गृह में पहुँचा ,जहाँ दुष्यन्त और
उन के मित्र अनिल कुमार सिंह मुझे सीधे कैन्टीन में ले गये जहाँ चायपान के बाद वे चले गये
और यह कह कह गये आप के रात के भोजन का प्रबन्ध भी इसी कैन्टीन में है ।

अगले दिन सवेरे त्रिपाठी जी कैन्टीन में आए । तब उन से मेरी पहली भेंट हुई । नाश्ते के
बाद वे मुझे पहले अपने आवास पर ले गये , जो हिन्दी भवन के पास ही है । बातचीत में पता
चला कि वे उसी आवास में रहते हैं जहाँ कभी हज़ारी प्रसाद द्विवेदी रहते थे । आवास के पीछे
एक बग़ीचा है , जिसमें अनेक फूल वाले पौधों के साथ एक अशोक वृक्ष भी है , जिस पर
लाल फूल आते हैं । यह वही अशोक वृक्ष है जिस के लाल फूलों पर मुग्ध हो कर द्विवेदी जी ने
अशोक के फूल नामक प्रसिद्ध निबन्ध लिखा था । द्विवेदी जी का लगाया एक नीम का पेड
भी त्रिपाठी जी ने मुझे दिखाया ।
पता चला कि द्विवेदी जी पर जब कोई वृत्तचित्र दिल्ली के एन सी आर टी द्वारा बनाया जा
रहा था , तो प्रोड्यूसर और कैमरा टीम के साथ उन के पुत्र मुकुन्द द्विवेदी भी उस घर को
फ़िल्माने आये थे , जिस में तब शैलेन्द्र जी रह रहे थे । मैं ने उन से चुटकी ली कि आप एक
ऐतिहासिक घर मे हैं , जहाँ हज़ारी प्रसाद जी की स्मृतियाँ बसी हुई हैं । शैलेन्द्र जी का उत्तर था
तो मैं भी एक ऐतिहासिक व्यक्ति हूँ। तब बात हँसी में उड गई थी , पर अब तो सचमुच वे इतिहास की
वस्तु होगये हैं , जब उन के मित्र और प्रशंसक उन के दुखद वर्तमान के साथ उन के प्रकाशमान
इतिहास की भी खोज करेंगे ।
कुछ देर बाद शैलेन्द्र जी मुझे डिप्टी रजिस्ट्रार के दफ़्तर में ले गये , जहाँ कुछ काग़ज़ों पर
मेर हस्ताक्षर लिये गये। औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद हम दोनों उस कमरे में गये जो
मौखिक परीक्षा के लिए था । शोधार्थी दुष्यन्त कुमार वहाँ पहले से बैठे थे। मैं ने उन से जो प्रश्न
पूछे उन के उत्तर सन्तोषजनक थे , जिन से मुझे लगा कि वे अपने विषय में पारंगत हैं । उन्होंने
गोविन्द मिश्र की कहानियों पर अपना शोधप्रबन्ध लिखा था ।
उस दिन दोपहर के भोजन के लिए दुष्यन्त बोलपुर के एक होटल रसना में ले गए । उन
से मित्र अनिल सिंह भी वहाँ आए । हम तीनों ने वहाँ शाकाहारी भोजन किया। उस के बाद
दुष्यन्त जी ने मुझे अपनी मोटर साइकिल द्वारा अतिथि गृह में छोड़ा ।
लगभग चार बजे वे दोनों मित्र फिर वहाँ आये और मुझे उत्तरायण , संगीत भवन
और कलाभवन दिखाने के लिए ले गये । उस दिन मुझे विश्वभारती के परिसर में घूमने का
अवसर मिला । । वहाँ विश्वविद्यालय के विभाग को भवन कहा जाता है ,जैसे हिन्दी भवन ,
कला भवन , अंग्रेज़ी भवन , इतिहास भवन आदि । कला भवन बड़ा रोचक औकलात्मक लगा ।
अनेक मूर्तियाँ , और कलात्मक दृश्य मेरे सामने थे । एक वृक्ष की उलझी हुई डालियों को इस
तरह जोड़ा गया था कि उस में कोई आकृति झांकनें लगी थी । एक किनारे पर विशाल पत्थर
को इस तरह तराशा गया था कि उस में डाँडी में नमक सत्याग्रह के लिए मार्च करते महात्मा
गांधी की प्रतिमा नज़र आती है । इस प्रकार की आकृतियाँ वहाँ के वातावरण को कलात्मक
बना रही हैं । शान्तिनिकेतन की यात्रा पर मैं ने दिल्ली लौट कर एक लेख लिखा था , जो
दिल्ली की पत्रिका साहित्य अमृत में छपा । वही लेख महाराष्ट्र के शिक्षा विभाग द्वारा
संचालित स्कूल बोर्ड की आठवीं कक्षा के हिन्दी के पाठ्यक्रम में शामिल कर लिया गया ।
उस की रायल्टी मुझे कई वर्षों तक मिलती रही । इस का श्रेय मैं शैलेन्द्र त्रिपाठी जी को देता
हूँ , क्योकि उन्हीं के कारण मेरी वहाँ की यात्रा हुई थी ।

उस दिन रात को त्रिपाठी जी मुझे भोजन के लिए अपने आवास पर ले गये । उन से खूब बातें
हुईं। पता चला कि वे इलाहाबाद विश्वविद्यालय मे पढ़े थे और वहीं से उन्होंने डीफिल उपाधि प्राप्त
की थी । वे जगदीश गुप्त और सत्य प्रकाश मिश्र के शिष्य रहे । वहाँ की छात्र राजनीति में भी वे
सक्रिय रहे । तब वे वाम पन्थी थे पर बाद में वाम पन्थियों से उन का मोह भंग हो गया । किस कारण
उन का वाम पन्थियों से मोह भंग हुआ , यह उन्हों ने नहीं बताया । इस विषय में उन्हें कुरेदना मैं ने ्त
उचित नहीं समझा । हां मुझे यह आभास अवश्य हुआ कि त्रिपाठी जी एक चिन्तन शील और सक्रिय
व्यक्ति थे ।
उन्हों ने बताया कि शान्तिनिकेतन में उन की नियुक्ति तत्कालीन विभागाध्यक्ष सिया राम
तिवारी की इच्छा के विरुद्ध हो गई थी । उन्हों ने कई प्रसंग सुनाये जिन से यह प्रकट होता है कि
वे तिवारी जी की विद्वत्ता के प्रति आश्वस्त नहीं थे । फिर भी तिवारी जी की अध्यक्षता के काल
में उन्हों ने तिवारी जी को अपना पूर्ण सहयोग दिया । इस से प्रकट होता है कि त्रिपाठी जी झगड़ालू क़िस्म के व्यक्ति नहीं थे । वे अध्ययनशील व्यक्ति थे और अपने कर्तव्य के प्रति सचेत थे ।
त्रिपाठी जी ने शान्तिनिकेतन में रहते हुए स्वाध्याय से बंगला सीखी और उस में इतना
कौशल प्राप्त कर लिया कि बंगला से हिन्दी में अनुवाद करने लगे । वे हिन्दी और भोजपुरी में कविताएं
लिखते थे और हिन्दी का एक त्रैमासिक सरयू धारा नाम से कई वर्षों तक सम्पादित एवम् प्रकाशित
करते रहे । यह उन की सृजनशीलता और कर्मठता का परिचायक है ।
उन की बातों से मुझे लगा कि वे शान्ति निकेतन से सन्तुष्ट नहीं हैं और वाराणसी के हिन्दू
विश्वविद्यालय मे प्रोफ़ेसर हो कर जाना चाहते हैं । उन की असन्तुष्टि के कारण का मुझे पता
नहीं चला पर अनुमान कर सकता हूं कि शायद उन्हें लगता था कि वहां उन की पदोन्नति नहीं
हो सकेगी । अगले दिन शान्तिनिकेतन से मैं रेलगाड़ी द्वारा कोलकाता गया जहाँ दो दिनों तक रुकने के बाद दिल्ली लौट आया ।
शैलेन्द्र जी ने विश्वभारती विश्वविद्यालय से मेरे पास एक दूसरा शोधप्रबन्ध भिजवाया ,
जो मोती बीए के भोजपुरी साहित्य को योगदान पर केन्द्रित था । मैं ने उसे जांच कर उस पर अपनी
रिपोर्ट समयानुसार विश्वविद्यालय को भेज दी । कुछ समय बाद त्रिपाठी जी ने फ़ोन पर कहा
कि दूसरे शोधार्थी की मौखिक परीक्षा के लिए यदि आप को बुलाया जाए तो अपनी स्वीकृति
भेज दीजियेगा । संयोग ऐसा हुआ कि मुझे नहीं बुलाया गया , अन्यथा शान्तिनिकेतन की
दूसरी यात्रा हो जाती

शैलेन्द्र जी से मेरी दूसरी भेंट ओडिसा के ब्रह्मपुर नगर में २०जून सन २००७ में हुई ,जहाँ
के विश्वविद्यालय में वे मेरी एक शिष्या निवेदिता साहू की मौखिक परीक्षा लेने गये थे और मैं
दिल्ली सेब्रह्मपुर गया था । मैं ब्रह्म पुर के भुवनेश्वरी लाज में ठहरा था । उस दिन मेरी शिष्या निवेदिता साहू मुझे होटल में नाश्ता करा के शैलेन्द्र त्रिपाठी की अगवानी के लिए स्टेशन चली गई।
उन्हों ने वहाँ के विश्वविद्यालय के कार्यालय में जा कर निवेदिताकी मौखिक परीक्षा ली ।
उस दिन एक होटल में भोजनकरते हुए त्रिपाठी जी से अनेक विषयों पर बात हुई । उन्हों मे बताया
कि विदिशा ( म प्र ) के राम कृष्ण प्रकाशन ने उन की कई पुस्तकें छपी हैं । वे बंगला से हिन्दी में
किये गये अपने अनुवाद छपवाना चाहते थे । उन के बाबा एक स्वतन्त्रता सेनानी थे , जिन के अनेक संस्मरण त्रिपाठी जी ने लिखे थे । उन्हें वे पुस्तक रूप में छपवाना चाहते थे ।
वे कहने लगे कि अपनी कुछ कविताएँ भेजिये । वे सरयू धारा का कविता विशेषाँक निकालना
चाहते थे । उन्होंने उस का कहानी विशेषांक भी निकाला था । वे स्वयम् हिन्दी और भोजपुरी में

कविताएँ लिखते थे । उन की कुछ हिन्दी और भोजपुरी कविताएँ मैं ने फेसबुक पर देखी हैं । कह
नहीं सकता कि उन की कविताओं का संकलन प्रकाशित हुआ या नहीं । पर उन के पास कईयोजनाएँ
थी । एक योजना थी सरयू धारा का लोकसाहित्य विशेषांक निकालना , जिस के लिए मैं ने उन्हें नज़ीर अकबराबादी की शायरी में लोक तत्व विषय पर एक लेख भेजा था ।
उन्हें उसी दिन शाम की गाड़ी से कोलकाता लौटना था । वे स्टेशन जाने की तैयारी करने
लगे। मै ने उन्हें अपनी दो पुस्तकें भेंट कीं और शान्तिनिकेतन के पुस्तकालय के लिए भेंट स्वरूप
अपनी सात पुस्तकें दीं । उसी दिन किसी गाड़ी से वे ब्र्ह्मपुर से कोलकाता वापस चले गये । मैं
दिल्ली लौट आया । उस दिन क्या पता था कि वह मेरी उन से अन्तिम भेंट होगी ।
— डा सुधेश
३१४ सरल अपार्टमैन्ट्स , द्वारिका , सैक्टर १० दिल्ली ११००७५
फ़ोन ०९३५०९७५१२०

आत्म चिन्तन


  • आत्म चिन्तन

महत्त्वाकांक्षा

जीवन में महत्त्वाकांक्षा ने मुझे दु:ख दिये पर जब अल्प सन्तोषी बनने की कोशिश की तो दुनिया ने मुझे कायर समझा । पर जीवन संध्या में आकाँक्षाएं मेरा पीछा नहीं छोड़ रहीं । बल्कि नई नई इच्छाएँ पैदा हो रही हैं । क्या यह बुझते दीपक की बढ़ती लौ है?
मैं ने देखा और स्वयम् अनुभव किया कि महत्वाकांक्षी लोग जीवन में अधिक घुटते हैं और अल्प सन्तोषी मज़े में रहते हैं पर उन्हें मिलता कुछ नहीं । दिए की बुझती लौ की बात मैं ने मौत की ओर बढ़ते जीवन के सन्दर्भ में लिखी थी । अपने जीवन का कच्चा चिट्ठा मैं ने अपनी आत्मकथा के तीन भागों में लिखा है , जिस का पहला भाग छप गया है ।

निन्दा

आप सब की निन्दा करें तो सब को दुश्मन बना लेंगे । आप सब की तारीफ़ करें तो सज्जन तो कहला सकते हैं पर आप विवेक हीन ख़ुशामदी माने जाएँगे । इस लिए बुरे को बुरा कहना और अच्छे को अच्छा कहना ज़्यादा व्यावहारिक है । ख़ुशामद का लाभ तो मिल सकता है पर ख़ुशामदी अच्छा नहीं माना जाता । सब की निन्दा करने वाला किसी को मित्र नहीं बना सकता । मित्रों के बिना जीवन एक रेगिस्तान की तरह है । तो अच्छा यह होगा कि दूसरों की निन्दा न करें या कम से कम करें और किसी आधार पर करें । दूसरे की तारीफ़ भी किसी आधार पर
करें । पर दूसरे की प्रशंसा निन्दा की तुलना मे निरापद है ।
हिन्दी में विविध लेखन की आवश्यकता

हिन्दी को विविध लेखन द्वारा इतनी समृद्ध कर दें कि अंग़ेज़ी उस के सामने बौनी लगे । पर यह काम दशकों में पूरा होगा । भारतीय वैज्ञानिक और समाजविज्ञानों के विद्वान प्राय: हिन्दी में नहीं लिखते । उन्हें कैसे समझाया जादए? वे हिन्दी कम जानते हैं या नहीं जानते और यदि जानते भी हैं तो वे अंग़ेज़ी में लिखना पसन्द करते हैं । केवल साहित्य की समृद्धि से कुछ नहीं होगा । पर उत्कृष्ट साहित्य का महत्त्व कम नहीं है । हिन्दी का दुर्भाग्य है कि उस में उत्कृष्ट
साहित्य भी कम लिखा जा रहा है ।
जैसे प्राचीन काल मे संस्कृत में अनेक विषयों पर , यहाँ तक कि पशु चिकित्सा पर भी , साहित्य रचा गया , वैसे हिन्दी में आजकल अनेक विषयों पर क्यों नहीं लिखा जा रहा है? विज्ञान , यान्त्रिकी आदि पर जो ग्रन्थ लिखे भी,
गये उन का प्रचार नहीं हुआ , क्योंकि उन्हें कोई पढ़ता नहीं या बहुत कम लोग उन का लाभ लेते हैं । कारण यहीं कि शिक्षा का माध्यम अंग्रेज़ी है।
जन कविता और लोकप्रिय कविता

जनकविता के प्रति कविता प्रेमियों की चिन्ता उचित है पर लोकप्रिय कविता केवल जनकविता ही नहीं होती स्तरीय , उच्च कविता भी होती है । मंचों पर मिली लोकप्रियता सामयिक होती है । स्थायी और कालातीत लोकप्रियता उस कविता को मिलती है जो कविता के उच्च मानदण्डों पर खरी उतरती है । हर युग में जो कवि कविता का नया रूप और उच्च स्तर सामने रखता है वह कविता विधा को आगे बढ़ाता है । केवल मंचों की वाहवाही कविता के उच्च स्तर का मानदण्ड नहीं है ।
आजकल संचार माध्यमों के सहारे लोकप्रियता पाने की होड़ लगी हुई है । जो कविता संचारमाध्यमों की
सीढ़ी पर चढ़ कर लोकप्रिय होने का दावा करती है , उस की तथा कथित लोकप्रियता सच्ची लोकप्रियता
नहीं है । हज़ारों सालों से जो कवि और कलाकार जनता के दिलों में बसे हुए हैं , वे संचार के साधनों के
अभाव मे कैसे जनता में लोकप्रिय हो गये ।
तो कहना होगा कि तथा कथित लोकप्रिय कविता अनिवार्यत: जन कविता नहीं है , जैसे लोक साहित्य
जन साहित्य या जनता का साहित्य होता है । जन कविता लोकप्रिय भी होगी ।
लोकप्रिय कविता का मतलब सस्ती कविता नहीं है , सस्ती कविता अर्थात घटिया कविता या साहित्य ।।
सस्ते साहित्य को घासलेटी साहित्य या लुगदी साहित्य भी कहा गया । सस्ते का मतलब कम क़ीमत का नहीं
बल्कि जिस का साहित्यिक मूल्य या गुण कम हो ।
तो लोकप्रिय कविता , जन कविता , सस्ती कविता शब्दों का एक ही अर्थ नहीं है। उन के मर्म को समझ कर उन में भेद करने की आवश्यकता है ।

समय  से संवाद

हिन्दी में साहित्य प्रचुर मात्रा में लिखा जा रहा है , पहले भी लिखा गया , पर उस से अधिक महत्त्वपूर्ण यह है कि वह समय से संवाद करता है या नहीं। समय आज का है । वह पहले का भी था और भविष्य का भी होगा ।
जो साहित्य आज के समय ,बीते कल और आगामी कल से भी संवाद करता है , वस्तुत: वही समय से संवाद करता है ।

एक अनुभव

कल कुछ सामान लेने घर से बाज़ार की ओर चला । ऊँचे फुटपाथ पर चढ़ते हुए पाँव असन्तुलित हो गया । मैं कमर के बल सड़क में धड़ाम से गिरा । पास खड़ा एक रिक्शे वाला दौड़ कर मेरे पास आया और मेरे दोनों हाथ पकड़ कर मुझे खड़ा किया । दिल्ली में अधिकांश रिक्शे वाले बिहारी हैं । वह अपनी बिहारी हिन्दी में बोला – बाबा, इस उमरिया में घर से बाहर ना निकला करो । चलो रिक्शा पर बैठो , घर छोड़ आता हूँ । मैं उस में बैठ कर घर के पास तक आया । उसे कुछ रुपये देने लगा तो वह बोला – ना बाबा , आप की सेवा का मौक़वा मिला । रुपये तो बहुत कमा लूँगा । ससुरी आज की पीढ़ी तो बज़ुर्गों की सेवा करती नहीं । घर लौटते हुए मैं सोच रहा था कि एक मुम्बई में राज ठाकरे है जो मानता और खुल कर कहता है कि मुम्बई में जितने अपराध होते हैं बिहार और यूपी के लोग करते हैं । एक बिहारी मुझे कल मिला जिस ने मुझे सड़क से उठाया और बाबा का सम्बोधन दिया और रिक्शा में बिठा कर मुझे निश्शुल्क घर छोड़ गया । मेरा यह विश्वास द्ृढ़ हुआ कि ग़रीब लोग प़ाय: मानवीयता से सम्पन्न होते हैं । तथा कथित छोटे भी महान होते हैं और तथाकथित महान भी नीच हो सकते हैं।

आत्म कथा लेखन

महा पुरुषों की जीवनी अन्य लोग लिखते हैं .जिन की जीवनी कोई नहीं लिखता वे स्वयं आत्म कथाड लिखते हैं जिस में वे स्वयं को महान बना देते हैं । तो क्या आत्म कथा में झूट का सहारा लिया जाता है .पर सत्य के प्रयोग के व्रती महात्मा गांधी.जवाहर लाल नेहरु ,डॉ राजेन्द्र प्रसाद आदि महापुरुषों ने अपनी आत्म कथाओं में जो लिखा क्या वह झूठ है ? गांधी जी की जीवनी फ्रेंच लेखक रोमां रोलां ने फ्रेंच में लिखी थी । गांधी जी पर कितनी कवितायें ,खंड काव्य ,महा काव्य आदि लिखे गए .फिर भी उन्हों ने आत्म कथा क्यों लिखी ? मेरा विचार है कि लेखक की हर रचना सीमित अर्थ में उस की लघु आत्म कथा है । फिर आत्म कथा लिखने से इतना परहेज़ क्यों ?.यह भी साहित्य की एक विधा है जिस में बहुत सारा साहित्य लिखा गया है ,पर इस के लिए ईमानदारी , ,तटस्थता ,और साहस की ज़रूरत है ।
मिथक की उपयोगिता

राम एक मिथक या अन्ध विश्वास हो सकते हैं पर वे अरबों ख़रबों के दिलों में बसे हुए हैं । समाज की मानसिक रचना में मिथकों की भी भूमिका है । मिथकों का आधार कभी इतिहास होता है , कभी धर्म और कभी कोई सशक्त रचना , पर उन्हें जीवन से ख़ारिज नहीं किया जा सकता । वाल्मीकि ने राम के मिथक को महाकाव्य बना दिया , जिस के आधार पर न जाने कितनी रचनाएँ लिखी गईं । महाभारत महाकाव्य ने कृष्ण के मिथक को फैलाया , जिस के आधार पर न जाने कितने काव्य , उपन्यास आदि लिखें गये । तो राम और कृष्ण गल्प होते हुए भी हिन्दू मानसिकता के अंग हैं । यह भी विचारणीय है ।
— सुधेश
३१४ सरल अपार्टमैन्ट्स , द्वारिका , सैैक्टर १० नई दिल्ली ११००७५
फ़ोन ०९३५०९७४१

श्रेणी    वैचारिक  गद्य

मेरा ताज़ा गीत”‘

जीवन तो संग्राम

किस को कितना जीना है
कितना विष हालाहल पीना है
किसी को भी पता नहीं है ।

इन थकी उनींदी आँखों में
रंगीन स्वप्न के चिर डेरे हैं
तन मन के चारों ओर मगर
जड़ बाधाओं के निर्मम घेरे हैं ।
जीवन तो है संग्राम भयंकर
यह शराब का नशा नहीं है ।
हल्दी की गाँठ मिली जिस को
बन्दर झट पन्सारी बन बैठा
जो धुप्पल में कुर्सी पर जा बैठा
संत्री भी मन्त्री सा तन कर ऐंठा ।
अपना हक़ भीख में मिला कहाँ
उसे छीनो तो कोई ख़ता नहीं है ।
आपा धापी छीना झपटी के युग में
जन अभिजन में चूहा दौड़ मची है
कहाँ समन्वय सामाजिक न्याय कहाँ
मानव गरिमा की चमक नहीं बची है ।
दान में पाया जो स्वर्णकलश भी
तो जीने का कोई मज़ा नहीं है ।

— सुधेश

श्रेणी   गीत

ख़ुशबू बाँटो

हिन्दी हाइकु(HINDI HAIKU)-'हाइकु कविताओं की वेब पत्रिका'-2010 से प्रकाशित हो रही है। आपकी हाइकु कविताओं का स्वागत है !

डॉ सुधेशडा.सुधेश

1

प्यार अब है

सजी बैठक बीच

काग़ज़ी फूल ।

2

अध्यापक है

एक घिसा रिकार्ड,

जो अनसुना ।

3

कली खिली क्या !

भँवरे रसलोभी

पगलाए हैं ।

4

सुख के साथी

प़कट शत्रु पर

न्यौछावर हैं ।

5

चिकने मुखड़े

पल भर के सुख

जी के दुखड़े ।

6

आँख बाज़ की

झपट चील की तो,

कौन बचेगा?

7

जितने ऊँचे,

उतने ही वीराने

खड़े ताड़ ये ।

8

कैसा युग है !

गधे निकल भागे,

घोड़ों से आगे ।

9

कैसे बादल

चोटी पर बरसे

मरु हैं प्यासे ।

10

नई कोंपलें

शीश उठा कहतीं-

‘नित्य खिलना।’

11

खिले सुमन

झर -झर कहते-

‘ख़ुशबू बाँटो।’  

12

सूखा पत्ता भी

कुचले जाने पर,

शोर मचाता ।

13

नव कलियाँ

झर झर कहती

कौन अमर ।

14

 नभ के तारे

रूप देखती मानो

मेरी दो आँखें ।

-0-

View original post 274 और  शब्द