कुछ व्यंग्यात्मक कविताएँ

चूहे निकले अपने दल का झण्डा ले कर ।सब को जंगल का शासन नहीं चाहिये
अपने दल का शासन ही मगर चाहिये
अपने अपने बिल की ओर मगर दौड़े
जब से बिलाव निकला मोटा डण्डा ले कर ।
सब को प्यारी है दूध मलाई
सब करते हैं पहले तो निजी भलाई
हलवाई का बेटा रैली में पहुँचा
नक़ली दूध बनाने का निज फ़ण्डा ले कर ।
सब के घर के बाहर काला अंधेर है
बिजली आएगी चुनाव में क़ुछी देर है
अंधेर नगरी में लालटैन भी चमकी
हाथी भी आया हाथों में हण्डा ले कर ।
बिल्ली पर प़तिबन्ध लगे मूषक बोला
कुत्तों को जेल मिले बिलाव यह बोला
” मिल कर खाओ ” जंगल का राजा गरजा
भेड़िया आ पहुँचा एकता का झण्डा ले कर ।
चूहे निकले – – – –

पोस्टर चेहरा

काम हो तो खिला चेहरा
मानो गमले में गुलाब
रंग छवि सब गन्ध मादकता लुटाता
शहद का माधु्र्य बातों में
कोमल हृदय का प्यार आँखों में ।
बन गया जब काम
उस के बाद चेहरा एक पोस्टर
महीनों एक मुद़ा में खड़ा
प्यार की पुरवा चले
दु:ख की आँधी बहे
हृदय मन्दिर आरती गूँजे
वेदनाओं का जुलूस चीखे दहाड़े
पोस्टर चेहरा न हिलता
स्ुरक्षित जगह से अपनी ।

अमृत से अजीर्णता

जिन्हें भोजन के लाले
ग़रीबी ने पाले
वे खाते मोटा अनाज
पीते गन्दा पानी
आँसुओं का सैलाब झेलते
पसीने की नदी तैर कर
भँवरों में फँस कर भी
सुरक्षित बाहर आते हैं ।
जिन के पेट भरे
गालों पर चर्बी
हाथों पर मछलियाँ नाचती
निशि दिन अमृत पी
अजीर्णता से मरते हैं ।

चेहरा या मुखौटा

चेहरा चेहरा है या मुखौटा
कैसे पता चले
चेहरा आत्मा का दर्पण है
मुखौटा उस का शरीर ।
चेहरा दर्पण है
तो मुखौटा उस का चौखटा ।
चेहरे पै चेहरे
उन पै मुखौटे
मुखौटों का दावा है
कि वे ही चेहरे हैं ।

परिहास

जितनी बक बक
उतना परिहास
जितनी बकवास
उतना परिहास
पर असली परिहास है
परी-हास ।

सास

प़ाण में प़िया
साँस साँस में सास
तो आह भरते नहीं निकलेगी
आख़िरी साँस ।

बहू

नेता जी जीते
क्योकि उन के साथ था
बहुमत
साथ में बहू-मत ।

Advertisements

Published by

drsudhesh

मैं मूलत: कवि हूँ , पर गद्य की अनेक विधाओं में लिखता हूँ , जैसे आलोचना , संस्मरण , यात्रा वृत्तान्त , व्यंग्य , आत्मकथा , ललित निबन्ध । मेरी अब तक २८ पुस्तकें छप चुकी हैं । मैं ने दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में २३ वर्षों तक अध्यापन किया । उस के पहले उत्तर प़देश के तीन कॉलेजों में आठ वर्षों तक अध्यापन किया था । मैं तीन बार विदेश यात्रा कर चुका हूँ ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s