फुलवा

फुलवा

आंख खोलते ही
निकल पड़ा फुलवा
लंबी काली कठोर सड़कों पर
छाती में फूल छिपाये ,
उसके मैले कमीज के पल्ले में थी
गेंदे की पीली हँसी
जुही की कंवारी खुशबू
गुलाब की रक्तिम आभा
हरसिंगार की मस्त जवानी.

बस की बाट जोहते बाबु से पुछा
‘फूल चाहिये ?’
उत्तर पाया – ‘चल बे डेमफूल’
पास खड़ी सुन्दरी
खुद थी फूल केवड़े का गबरीला.
प्रेमी युगल
प्रेममदिरा के मद में बहका –
‘जूही कितने की ?’
फुलवा उछाहा में कोयल- सा चहका –
‘एक रुपैया’
ठिठका सुन-
‘एक चवन्नी लेगा ?”

धरती का नन्हा फूल
बेचता रहा फूल
दिन भर सडकों की फांक धूल
उसका ना बिका पर एक फूल
था नहीं कागजी या प्लास्टिक
उसका था असली टंच फूल.

आखिर फुलवा थक गया बैठ
फिर जागी जालिम भूख पेट
उठ खड़ा हुआ
चल दिया उधर
आती थी मीठी महक जिधर
ढाबे पर पूछा-
‘लोगे फूल
‘ये देखो इत्ते सारे फूल ?’
मालिक ने यों ही पूछ लिया
‘क्या लेगा इनका ?’
फुलवा ने समझा गाहक है
अब मोल बताना नाहक है
वह रुंधे गले से फूट पड़ा
तुमको क्या कहना लालाजी
इनकी कीमत इक रोटी
बस मना न करना लालाजी
इनकी कीमत इक रोटी
हाँ इक रोटी ‘.
हाँ इक रोटी .’…….।

Advertisements

Published by

drsudhesh

मैं मूलत: कवि हूँ , पर गद्य की अनेक विधाओं में लिखता हूँ , जैसे आलोचना , संस्मरण , यात्रा वृत्तान्त , व्यंग्य , आत्मकथा , ललित निबन्ध । मेरी अब तक २८ पुस्तकें छप चुकी हैं । मैं ने दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में २३ वर्षों तक अध्यापन किया । उस के पहले उत्तर प़देश के तीन कॉलेजों में आठ वर्षों तक अध्यापन किया था । मैं तीन बार विदेश यात्रा कर चुका हूँ ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s